सुहाने पल

रूहानी मौसम की वो प्यारी हवाएं
बचपन की वह दिन हमें दिलाएं

कहीं बहती नदियां बहती फिजाएं
मां की वो प्यार भरें दिन याद आएं 

चांदनी रातों की जब रात आएं
मां आंचल के नीचे हम छुप जाएं

जब लहराये फूलों की वो लताएं
बचपन की प्यारी यादें हमें सताएं

दिल की सभी बातें हमें बताएं
बहनों की यह प्यार लगे दुवाएं


Sanjay kumar 

expr:data-identifier='data:post.id'

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

7

6

- हम उम्मीद करते हैं कि यह लेखक की स्व-रचित/लिखित लेख/रचना है। अपना लेख/रचना वेबसाइट पर प्रकाशित होने के लिए व्हाट्सअप से भेजने के लिए यहाँ क्लिक करें। 
कंटेंट लेखक की स्वतंत्र विचार मासिक लेखन प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने के लिए यहाँ क्लिक करें।। 


 

2